Wednesday, January 27, 2010

अक्स


रिश्तों के

दरियों में

देखती हूँ

अपना

धुंधला

अक्स

पानी की पतली परत

के नीचे झिलमिलाते से बुलबुले

बनते हैं, बिगड़ते हैं

एक बार फिर,

लहरों के साथ

बह जाता है

मेरा धुंधला अक्स।

13 comments:

  1. प्‍यारी रचना.

    ReplyDelete
  2. चारू जी, आदाब
    रिश्तों के दरियों में देखती हूँ......
    अपना धुंधला अक्स.
    वाह, बहुत ही सुन्दर
    आपके ब्लाग पर आकर अच्छा लगा.
    जज़्बात पर भी तशरीफ़ लाइयेगा

    ReplyDelete
  3. एक बार फिर,

    लहरों के साथ

    बह जाता है

    मेरा धुंधला अक्स।
    Nafasat/nazakat-si bhari pyari-si rachana !

    ReplyDelete
  4. aap sabhi ka bahut dhanyavaad...aap logon ne apna amulya samay nikal kar meri kavitayen padhi...aur apna protsaahan diya...aise hi mujhe aur likhne ke liye protsaahit karte rahiyega..

    ReplyDelete
  5. ek acchai rachna.

    KASHYAP-IANDPOLITICS.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  6. हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में प्रोफेशन से मिशन की ओर बढ़ता "जनोक्ति परिवार "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ ,

    ReplyDelete
  7. हिंदी ब्लाग लेखन के लिये स्वागत और बधाई । अन्य ब्लागों को भी पढ़ें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देने का कष्ट करें

    ReplyDelete
  8. swagat hai...issi trah sundar sundar likhte raho...srahna milti rahegi...!!

    JAi ho Mangalmay Ho

    ReplyDelete
  9. Aapka bahut dhanywaad AJAY JI aur VIVEK JI...

    ReplyDelete
  10. Zara sa Bahirmukhi hone ki disha me prayas paristhitiyon ko badalne me sahaayak ho sakta hai... Tab, aapka andaa-e-bayaan kuchh aur hi hoga; aisa mera vichaar hai. Aazma ker dekhein... :))

    Abhi Indivine per aapki post ko vote kiya hai! Sampark me bani rahein, Charoo ji...! Shubhkaamnaayen... :)

    Shrinath Vashishtha
    Port Blair.
    Andaman & Nicobar Islands (India).

    ReplyDelete
  11. ...Shrinath ji...bahut achhi baat apne batayi...maafi chahungi,der se jawab dene ke liye..kuchh vyastata ke karan main online nahi aa pa rahi thi...apne comment de ke aisi hi mujhe protsahan dete rahiye...Dhanyawad...

    ReplyDelete